26 C
Guwahati
Wednesday, August 10, 2022
More

    World Earth Day: जानिए कब और कैसे हुई थी इस दिन को मनाने की शुरुआत

    दिल्लीः आज विश्व भर में 22 अप्रैल को अर्थ डे यानी ‘विश्‍व पृथ्वी दिवस’ मनाया जाता है.इस दिन को मानाने का एक ही मकसद है, लोग पृथ्वी और पर्यावरण की अहमियत समझे और उसे बचाने की कोशिश करें. यही वजह है कि इस दिन पर्यावरण संरक्षण (Environment Protection) और पृथ्वी को बचाने का संकल्प (Resolution) लिया जाता है.

    संयुक्त राष्ट्र में पृथ्वी दिवस को हर साल मार्च एक्विनोक्स यानी कि साल का वह समय, जब दिन-रात बराबर होते हैं, पर मनाया जाता है. इस परंपरा की स्थापना शांति कार्यकर्ता जॉन मक्कानेल द्वारा की गई थी. वैश्विक स्तर पर लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक बनाने के लिए 22 अप्रैल 1970 को पहली बार पृथ्वी दिवस बड़े स्तर पर मनाया गया था. मगर पर्यावरण असंतुलन (Environmental Imbalance) की वजह से इसकी स्थिति खराब होती जा रही है. बता दें कि इससे पहले पृथ्वी दिवस साल में दो बार मनाया जाता था. पहले 21 मार्च और फिर 22 अप्रैल को इस दिन का आयोजन किया जाता था. लेकिन साल 1970 के बाद से इसे सिर्फ 22 अप्रैल को ही मनाया जाने लगा.

    21 मार्च को मनाए जाने वाले पृथ्वी दिवस को संयुक्त राष्ट्र का समर्थन मिला हुआ है, लेकिन इसे केवल वैज्ञानिक और पर्यावरणीय महत्व ही मिला हुआ है, वहीँ 22 अप्रैल को मनाए जाने वाले पृथ्वी दिवस को पूरी दुनिया में माना और मनाया जाता है. लेकिन कहीं न कहीं संसाधनों के लालच में प्रकृति को अनजाने ही सही बहुत नुकसान पहुंचता है. यही कारण है कि दुनिया में ग्लोबल वॉर्मिंग तेजी से बढ़ रही है. और लोगों को इससे जागरूक करने के लिए ही विश्व पृथ्वी दिवस मनाया जाता है.

    इस बार कोरोना काल में अर्थ डे की थीम है ‘पृथ्वी को फिर से अच्छी अवस्था में बहाल करना’. जिसके लिए उन नेचुरल रिसोर्सेज और उभरती हुई तकनीकों पर ध्यान देना होगा जो दुनिया के पारिस्थिकी तंत्र को फिर से कायम करने में मददगार साबित होंगे

    Published:

    Follow TIME8.IN on TWITTER, INSTAGRAM, FACEBOOK and on YOUTUBE to stay in the know with what’s happening in the world around you – in real time

    First published

    ट्रेंडिंग