25 C
Guwahati
Thursday, October 6, 2022
More

    कोरोना वैक्सीन की जगह लग गया रैबीज का टीका, जांच जारी

    दिल्ली (Delhi). उत्तर प्रदेश के शामली में तीन वृद्ध औरतों को कोरोना वैक्सीन की जगह रेबीज का टीका लगा दिया गया. जब तीनों में से एक महिला की हालत बिगड़ने लगी तब जाकर हकीकत सामने आई. पीड़ितों ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से शिकायत कर गलत वैक्सीन लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

    मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सीएमओ डॉक्टर संजय अग्रवाल ने बताया कि परिजनों की शिकायत पर सीएमओ ने जांच के आदेश दिए हैं. बता दें कि रेलवे मंडी निवासी अनारकली (72), सरावज्ञान मोहल्ला निवासी सरोज (70), और सत्यवती (62) एक साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोविड-19 टीके की पहली खुराक लगवाने गईं थीं. जहां स्वास्थ्य कर्मियों ने एक मेडिकल स्टोर से 10  रुपये वाली सिरिंज मंगवाई और तीनों को वैक्सीन लगा दी. उसके बाद उन्हें घर चले जाने के लिए कह दिया.

    यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस मामलों में फिर आया बड़ा उछाल

    वहीं घर आने पर इनमें से एक महिला सरोज को तेज चक्कर आने लगे और घबराहट हुई, जिसके बाद परिजन उन्हें निजी चिकित्सक के पास ले गए. चिकित्सक ने सीएचसी से दिए गए पर्चे को देखा तो उस पर एंटी रेबीज वैक्सीन लगाना लिखा हुआ था. बाद में अन्य दोनों महिलाओं के पर्चे देखे गए तो उन पर भी एंटी रेबीज दर्ज थी.

    इस मामले में सीएमओ डॉ. संजय अग्रवाल का कहना है कि ऐसा संभव नहीं है. एंटी रेबीज और कोरोना टीकाकरण अलग-अलग स्थान पर हो रहा है. कोरोना सेंटर पर एंटी रेबीज का टीका होता ही नहीं है,  दोनों जगह पर स्टाफ भी अलग-अलग होता है. महिलाएं गलती से एंटी रेबीज कक्ष में चली गई होंगी. हालांकि सीएचसी प्रभारी को जांच कर रिपोर्ट देने के आदेश दिए गए हैं. जिला मजिस्ट्रेट जसजीत कौर ने बताया कि एसडीएम कैराना सहित दो अधिकारियों को जांच के लिए लगाया गया हैं. दोनों अधिकारी अस्पताल में जांच और पीड़ित महिलाओं के बयान लेंगे. इसके बाद प्रकरण की जांच की जाएगी.

    Published:

    Follow TIME8.IN on TWITTER, INSTAGRAM, FACEBOOK and on YOUTUBE to stay in the know with what’s happening in the world around you – in real time

    First published

    ट्रेंडिंग