24.6 C
Guwahati
Tuesday, June 28, 2022
More

    शाहीन बाग पर धरने को लेकर पुनर्विचार याचिका खारिज, जानें क्या है SC का तर्क

    दिल्ली (Delhi). सुप्रीम कोर्ट ने शाहीन बाग पर धरने को लेकर दायर की गई पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया है. अदालत का कहना है कि धरना प्रदर्शन कहीं भी और कभी भी नहीं किया जा सकता है. लंबे समय तक चलने वाले विरोध प्रदर्शन से उस सार्वजनिक स्थान पर दूसरों के अधिकारों पर भी प्रभाव पड़ता है.

    सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि विरोध जताने के लिए धरना प्रदर्शन लोकतंत्र का हिस्सा है, लेकिन उसकी भी एक सीमा तय है. कोर्ट ने कहा कि हमने सिविल अपील में पुनर्विचार याचिका और रिकॉर्ड पर विचार किया है. लेकिन उसमें हमें कोई गलती नहीं मिली. यह फैसला जस्टिस एसके कौल, जस्टिस अनिरुद्ध बोस और जस्टिस कृष्ण मुरारी की पीठ ने सुनाया है.

    यह भी पढ़ें: Koo App पर आया रेल मंत्रालय, जानें और कौन-सी हस्तियां है इस ऐप पर

    बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि धरना प्रदर्शन के लिए जगह निश्चित की जानी चाहिए. जिसके बाद उस जगह से बाहर धरना करने वालों को हटाने का अधिकार पुलिस के पास है. धरने के लिए सार्वजनिक स्थान पर कब्जा नहीं किया जा सकता. जिसके बाद CAA के खिलाफ शाहीन बाग में प्रदर्शन करने वाली महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका के साथ एक और अर्जी लगाई थी. जिसमें मांग की गई थी कि SC द्वारा आंदोलन को लेकर अक्टूबर, 2020 में जो आदेश दिया गया, उसपर फिर से सुनवाई की जाए.

    Published:

    Follow TIME8.IN on TWITTER, INSTAGRAM, FACEBOOK and on YOUTUBE to stay in the know with what’s happening in the world around you – in real time

    First published

    ट्रेंडिंग