27 C
Guwahati
Wednesday, June 29, 2022
More

    चमोली हादसा : मां ने बचाई अपने बेटे और अन्य 24 लोगों की जान

    दिल्ली : तपोवन में एनटीपीसी जलविद्युत उपक्रम में काम करने वाले 27 वर्षीय मोटर चालक विपुल कैरेनी हादसे वाले दिन भी रोजमर्रा की तरह 9 बजे अपने गांव ढाक से तपोवन हाईड्रो प्लांट की ओर अपने काम के लिए निकल पड़ा. अचानक विपुल को 10.30 बजे लगातार उनकी मां बार-बार कॉल कर रही थी. अपनी मां मंगश्री के बार-बार आ रहे काल पर ध्यान न देते हुए विपुल अपने काम में व्यस्त थे और मंगश्री अपने बेटे को कॉल करती हुई, उसे बुलाने के लिए प्लांट की तरफ निकल पड़ी. जब तक मां अपने बेटे के पास नहीं पहुंची, वह कॉल करती रही. उनके मन में एक अजीब-सा डर था कि उनके बेटे को कुछ हो न जाए.

       कैरेनी की मां विपुल को आवाज देती है और घर चलने को कहती है लेकिन रविवार को प्रतिदिन की तुलना में ज्यादा मजदूरी मिलती है तो विपुल ने आने से माना कर दिया. आखिर 1200 रूपये की मजदूरी छोड़ कैसे चला जाए. विपुल ने अपनी मां की बातों को गंभीरता से नहीं लिया. फिर उसकी मां ने चिल्लाकर बताया कि धौलीगंगा में उन्होंने बाढ़ के विकराल रूप को आते देखा. दरअसल मंगश्री का घर ऊंचे पहाड़ों पर है और वे अपने घर के बाहर काम कर रही थी. तभी उन्होंने 15 मीटर ऊपर उठते पानी के वेग को देखा और अपने बेटे को सावधान करने के लिए कॉल पर कॉल करती गई और जब बेटे ने उनका फोन नहीं उठाया, तो वह खुद बेटे को बचाने दौड़ी चली आई.

      एक मां की पुकार ने न केवल उसके बेटे की जान बचाई बल्कि और 24 लोगों की भी जान बचाई. विपुल को ऊपर की ओर भागता देखकर उसके साथ काम करने वाले दूसरे साथी भी उसके पीछ भागे और सभी की जान इस भीषण आपदा से बच गई. एक मां का दिल हमेशा अपने बच्चे पर आने वाली कठिनाईयों को पहले ही भांप लेता है.

    Published:

    Follow TIME8.IN on TWITTER, INSTAGRAM, FACEBOOK and on YOUTUBE to stay in the know with what’s happening in the world around you – in real time

    First published

    ट्रेंडिंग