26 C
Guwahati
Friday, May 20, 2022
More

    नेताओं की भाषणबाजी से नाराज़ दर्शक बिना दहन देखे लौटे

    छतरपुर। पिछले साल कोरोना वायरस महामारी की भेंट चढ़ा दशहरा त्योहार इस बार देश के विभिन्न हिस्सों में धूमधाम से मनाया गया। विजयादशमी या दशहरा का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। जगह-जगह रावण, मेघनाद और कुंभकर्ण के पुतलों का दहन किया गया तो वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग नाराज़ दिखे और बिना रावण दहन किये ही वापस घर को लौट गए। मामला छतरपुर के बाबूराम चतुर्वेदी स्टेडियम का है, वहां उपस्थित लोग अपने घरों को वापस लौटते दिखे।

    चार घंटे देरी से हुआ रावण दहन

    दरअसल यहां पर आयोजकों द्वारा लोगों को 8:00 बजे का समय दिया गया था और लोग अपने परिवार और छोटे बच्चों के साथ रावण दहन देखने के लिए बड़ी उत्सुकता से पहुंचे थे, लेकिन यहां पर नेताओं की भाषण बाजी के चलते रावण दहन लगभग 12:00 बजे हुआ। जिसके चलते लोग नाराज होकर वापस अपने घरों की ओर लौट गए। इस कार्यक्रम में केंद्रीय राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते अतिथि के तौर पर मौजूद थे इसके अलावा अन्य स्थानीय राजनेता भी मंचासीन थे। जिनके भाषणों की लंबी श्रंखला के चलते दर्शक उदास हुए और नाराज होकर चलते बने। बाद में रावण दहन देखने के लिए काफी कम संख्या में दर्शक मौजूद रहे।

    Published:

    Follow TIME8.IN on TWITTER, INSTAGRAM, FACEBOOK and on YOUTUBE to stay in the know with what’s happening in the world around you – in real time

    First published

    ट्रेंडिंग